कंप्यूटर क्या है और computer की क्या विशेषताएं होते हैं?

कंप्यूटर क्या है और computer की क्या विशेषताएं होते हैं?

हेलो दोस्तों नमस्कार आज की नई और fresh ब्लॉग में आपका बहुत-बहुत स्वागत है आज के इस post में कंप्यूटर के बारे में बात करने वाले हैं, जिसमें कंप्यूटर क्या है और उनकी क्या की विशेषताएं होते हैं, क्या जानते हैं computer kya hai और कंप्यूटर का आविष्कार किसने किया और कब किया गया, आप नहीं जानते तो आप इस ब्लॉग को कंटिन्यू पढ़े.

कंप्यूटर का हिंदी Name "संगणक" है, computer  एक प्रकार की मशीन होती है जो दिए गए निर्देशों के अनुसार अपना कार्य को पूरा करती है, यह एक इलेक्ट्रॉनिक Device है जिसे knowledge के साथ काम करने के लिए बनाया गया है, कंप्यूटर का नाम लैटिन शब्द computare से बना है, जिसका मतलब कैलकुलेशन करना होता है.

computer kya hai
Computer kya hai


कंप्यूटर मुख्य तौर से तीन काम करती है:- 
  • पहला काम डाटा को लेना जिसे इनपुट(Input) भी कहते हैं. 
  • दूसरा काम डाटा को process करना होता है 
  • और उसके बाद तीसरा काम डाटा को processed करके result देना, जिसे आउटपुट भी कहते हैं

Modern computer बात करें तो उसका जनक चार्ल्स बैबेज को माना जाता है क्योंकि उन्होंने ही सबसे पहले मैकेनिकल कंप्यूटर का रूपरेखा तैयार किया था.

अगर सिंपल भाषा में बात करें तो कंप्यूटर एक एडवांस electronic डिवाइस है जो डाटा लेकर उसको Processing  करके Output रूप में देती है यानी कोई भी logical और Arithmetical calculation को कैलकुलेट करती हैं और हमें आउटपुट के रूप में देती है.

कंप्यूटर का फुल फॉर्म क्या होता है " Computer's full form


इंटरनेट में आपने कभी जरूर सर्च किया होगा कि कंप्यूटर का फुल फॉर्म क्या होता है " What is full form of COMPUTER". बहुत ऐसी वेबसाइट है जो COMPUTER का फुल फॉर्म कुछ अलग अलग बताती है, क्योंकि कंप्यूटर का technical फुल फॉर्म नहीं होता है लेकिन आपने जरूर कभी पढ़ा होगा कि कंप्यूटर का काल्पनिक फुल फॉर्म: 

COMPUTER:-  "कॉमनली ऑपरेटेड मशीन पार्टिकुलरली यूज़ड इन टेक्निकल एंड एजुकेशनल रिसर्च "
C: commonly
O: Operated
M: Machine
P: particularly
U: Used In
T: Technical And
E: Educational
R: Research


कंप्यूटर काम कैसे करता है?

कंप्यूटर अपना काम निम्नलिखित प्रकार से करता है:

Input:

इनपुट, जिसे इंफॉर्मेशन/ डाटा भी कहते हैं, इस स्टेप में कंप्यूटर इनपुट डिवाइस से इंफॉर्मेशन लेती है यह किसी के द्वारा डाला जाता है, यह इंफॉर्मेशन कोई letters, images, या वीडियो भी हो सकती है.

processing:

इस स्टेप में दिए हुए इनपुट या डाटा को Instructions के आधार पर प्रोसेस करती है जो आंतरिक प्रोसेस होती है.

output:

आउटपुट स्टेप में प्रोसेस किया हुआ डाटा को रिजल्ट के रूप में दिखाती करती है, चाहे तो हम इस रिजल्ट को अपना मेमोरी कार्ड में save भी कर सकते हैं या future में भी use कर सकते हैं.


Generation के आधार पर कंप्यूटर का इतिहास

क्या जानते हैं कंप्यूटर का इतिहास कैसे बनाया गया है और Generation category का शुरुआत कब से हुआ. 
Generation को हिंदी में पहली पीढ़ी, दूसरी पीढ़ी, तीसरी पीढ़ी, चौथी पीढ़ी, पांचवी पीढ़ी के रूप में बताया गया है:

कंप्यूटर की पहली पीढ़ी 1940 से 1956 

इस कंप्यूटर Generation में वैसे कंप्यूटर को रखा गया है, जो circuitry और Magnetic drum को मेमोरी के रूप में इस्तेमाल करते थे, जिसे वेक्यूम ट्यूब कंप्यूटर कहां जाता था

कंप्यूटर की दूसरी पीढ़ी सन 1956 से 1963 तक को माना गया है

इस कंप्यूटर जनरेशन में ट्रांजिस्टर वाले कंप्यूटर को रखा गया जो वेक्यूम ट्यूब से Energy Efficient भी थी जिसमें कंप्यूटर heating की समस्या कम हो गई थी.

तीसरी पीढ़ी का कंप्यूटर 1964 से 1971

Third जनरेशन कंप्यूटर में सबसे पहली बार इंटीग्रेटेड सर्किट का यूज किया गया था इसमें ट्रांजिस्टर के छोटे-छोटे parts को सिलिकॉन chips के अंदर रखा जाने लगा जिसे हम लोग semiconductor भी कहते हैं यह फायदा हुआ कि कंप्यूटर कि काम करने का प्रोसेसिंग ज्यादा हो गया.

चौथी पीढ़ी के कंप्यूटर 1971 से 1985 के बीच माना गया

इस जनरेशन में माइक्रोप्रोसेसर का इस्तेमाल होने लगा जिस माइक्रोप्रोसेसर में हजारों इंटीग्रेटेड सर्किट को छोटे से सिलिकॉन चिप में इस्तेमाल किया जाने लगा जिसमें यह फायदा हुआ कि computer की साइज बहुत ही कम हो गई. और बड़े-बड़े कैलकुलेशन को आसानी से कर पा रहा था.

पांचवी जनरेशन का कंप्यूटर 1985 से अभी तक माना गया है

इस जनरेशन के कंप्यूटर आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस को देखते हुए बनाया जा रहा है जिसमें नई नई टेक्नोलॉजी और भाषा का पहचान/ voice recognization , पैरेलल प्रोसेसिंग, quantum कुलेशन, जैसे नई तकनीकों का इस्तेमाल किया जाने लगा है, इस जनरेशन के कंप्यूटर मैं ऐसा decision क्षमता डाला गया है जिससे बहुत सारे काम ऑटोमेटिक हो जाता है.

कंप्यूटर के मुख्य part क्या है?

अगर हम कंप्यूटर के मुख्य पार्ट्स का बात करें तो इसके निम्नलिखित internal यूनिट है
कंप्यूटर के अंदर छोटे-छोटे कंपोनेंट्स पाए जाते हैं जिसको देखने में बहुत complicated लगता है, लेकिन यह कॉम्प्लिकेटेड नहीं होता है , तो अब इन्हीं कॉम्प्लिकेटेड पार्ट्स के बारे में जानकारी दूंगा.

  1. Motherboard
  2. CPU या Processing
  3. RAM
  4. Hard Disk या Hard Drive
  5. Power Supply Unit: पावर सप्लाई यूनिट
  6. Bluetooth Card: ब्लूटूथ कार्ड
  7. Network Card: नेटवर्क कार्ड
  8. Sound Card: साउंड सिस्टम कार्ड
  9. Video Card: वीडियो कार्ड
  10. Expansion Card: एक्सपेंशन कार्ड
तो ऊपर दिए गए सभी मुख्य parts को बारी-बारी से discuss करते हैं:

मदरबोर्ड: Motherboard

कंप्यूटर का मुख्य सर्किट मदर बोर्ड को माना जाता है जो कंप्यूटर में एक पतली प्लेट की जैसी दिखाई देती है यहां पर बहुत सारे कंपोनेंट्स इंस्टॉल होते हैं जैसे सीपीयू ऑप्टिकल ड्राइव कार्ड वीडियो ऑडियो कार्ड, जो एक दूसरे से Directly or Indirectly connected होते हैं.

CPU

CPU का फुल फॉर्म: Central Processing Unit होता है जिसे कंप्यूटर का brain भी कहा जाता है, जो मदरबोर्ड के अंदर इंस्टॉल होता है कंप्यूटर गतिविधियां होती है जिसका देख रहे CPU ही करता है, जिस कंप्यूटर में प्रोसेसर का स्पीड ज्यादा होता है वह उतना ही जल्दी अपना काम कर पाता है.

RAM

RAM का फुल फॉर्म Random Access Memory होता है, कंप्यूटर सिस्टम का छोटा मेमोरी होता है और कैलकुलेशन किए गए रिजल्ट को RAM  में Save कर देता है अगर आपका कंप्यूटर है बंद हो जाए तो सेव किया गया डाटा lost हो जाता है, इसीलिए काम किया गया हुआ प्रोसेस को बीच-बीच में Save करना चाहिए जिससे कि हार्ड ड्राइव पर लंबे समय तक रह सके.

RAM को मापन करने का  2  का है :
मेगा बाइट(MB) एंड गीगाबाइट(GB), जिस कंप्यूटर का RAM ज्यादा होगा उसको मजबूत कंप्यूटर माना जाता है.

हार्ड ड्राइव: Hard Drive

कंप्यूटर का वह कंपोनेंट जहां पर कोई भी सॉफ्टवेयर या डाक्यूमेंट्स को save किया जाता है, और लंबे समय तक स्टोर करके रखा जाता है इसमें आप बड़ी बड़ी साइज की files को स्टोर करके रख सकते हैं.

पावर सप्लाई: Power Supply Unit

यह कंपोनेंट्स कंप्यूटर के पार्ट्स को पावर सप्लाई करने का मदद करती है.

कंप्यूटर कितने प्रकार के होते हैं: How Many Types Of Computer

क्या आप जानते हैं mainly कंप्यूटर के कितने प्रकार होते है, नहीं जानते तो पोस्ट को कंटिन्यू पढ़ें, 
कंप्यूटर का नाम सुनते ही आपके मन में घर में रखे कंप्यूटर का image आता होगा लेकिन आप गलत सोच रहे हैं , कंप्यूटर बहुत सारे प्रकार के होते हैं जो अलग-अलग साइज और Shape के होते हैं जिसका इस्तेमाल अलग अलग तरीका से किया जाता है, जैसे: कैलकुलेटर को कैलकुलेशन करने के लिए, स्कैनर को स्कैन करने के लिए, और एटीएम मशीन को पैसा निकालने के लिए इस्तेमाल पर लाया जाता है. तो इस प्रकार के बहुत सारे कंप्यूटर होते हैं:

डेक्सटॉप: Desktop

डेस्कटॉप का इस्तेमाल ज्यादातर घरों, स्कूलों, कॉलेज पर पर्सनल काम के लिए किया जाता है, जिसमें अलग से मॉनिटर, माउस, कीबोर्ड, और अन्य डिवाइस इसका इस्तेमाल किया जाता है.

लैपटॉप: Laptop

लैपटॉप को तो आप जानते ही होंगे या आपके पास होगा, इसमें बैटरी insert होते हैं, और दूसरी जगह ले जाया भी जा सकता है.

टेबलेट: Tablet

टेबलेट को हैंड यूज कंप्यूटर भी कहते हैं और इसे आसानी से हाथ में पकड़कर यूज भी किया जा सकता है.

सरवर: Server

सरवर कंप्यूटर के बारे में सुना है, यह इस प्रकार का कंप्यूटर होता है जिसे डाटा या इंफॉर्मेशन को एक जगह से दूसरी जगह ट्रांसफर करने के लिए जाता है
जैसे: गूगल पर आप कोई भी कीवर्ड सर्च करते हैं वह server मैं स्टोर हो जाती है और आपको उस से रिलेटेड result प्राप्त होता है.

Click here to Know

how to register a domain name from Godaddy step by step guide


कंप्यूटर का उपयोग कहां होता है?

कंप्यूटर का उपयोग दैनिक जीवन में बहुत सारे जगहों पर किया जाता है, आज के दौर में कंप्यूटर के बिना कोई काम करना नामुमकिन है तो इसी को जानते हैं कि कहां कहां प्रयोग किया जाता है.

Education

कंप्यूटर का उपयोग शिक्षा के क्षेत्र में बहुत बड़ी मात्रा में किया जाता है, यदि आप कोई स्टूडेंट कुछ भी questions पूछेंगे, उसका जवाब इंटरनेट से ढूंढ के देने का प्रयास करेगा, अधिकांश स्टूडेंट्स ऑनलाइन क्लासेस मैं उपयोग करती है, घर बैठे पढ़ाई करने का आसान तरीका है.

Health And Medicine

कंप्यूटर सेक्टर में एक वरदान से कम नहीं माना जाता है क्योंकि ज्यादातर मरीजों का इलाज का देखरेख कंप्यूटर के जरिए किया जाता है और इससे इलाज करना बहुत ही आसान हो गया है.

Science के क्षेत्र में कंप्यूटर का प्रयोग

साइंस के क्षेत्र में कंप्यूटर का प्रयोग बहुत बड़े पैमाने पर किया जाता है इसमें साइंस से जुड़े रिसर्च को करने में बहुत आसानी होती है और बहुत सारे दुनिया के साइंटिस्ट आसानी से रिसर्च कर पाते हैं.

इंटरटेनमेंट: Entertainment

इंटरटेनमेंट में कंप्यूटर का उपयोग movies, sports, and Resturents etc मै इस्तेमाल किया जाता है और से जुड़े व्यवस्थाओं को आसान बना देता है.

गवर्नमेंट: Government

आजकल कंप्यूटर के बिना गवर्नमेंट के द्वारा कुछ भी काम को कर पाना आसान नहीं होता है जिसमें से मुख्य जगह, जैसे: टूरिज्म, ट्रैफिक, information and broadcast, एजुकेशन इस्तेमाल किया जाता है.

डिफेंस: Defence

आजकल डिफेंस सेक्टर में इस्तेमाल बहुत ज्यादा बढ़ गया है इसका कारण Security भी हो सकता है, और कंप्यूटर की मदद से आसानी से सेना को सशक्त एंड control किया जा सकता है.

कंप्यूटर के क्या लाभ हैं?

यहां तक आपने कुछ भी पढ़ा कंप्यूटर से related उसको देखते हुए इसके लाभ क्या है: कंप्यूटर का उपयोग करने से निम्नलिखित लाभ होते हैं.
  1. Speed
  2. Accuracy
  3. Storage
  4. Flexible
  5. Data security
  6. Multitasking

कंप्यूटर के हानि क्या है?

कंप्यूटर के कुछ हानि भी होते हैं जैसे :
  1. Virus and attacks
  2. Online cyber crime
  3. Employment opportunity की कमी

Conclusion: कंप्यूटर क्या है और computer की क्या विशेषताएं होते हैं?


मुझे उम्मीद है कि आप को जो कुछ भी बताया हूं जैसे कंप्यूटर क्या है, "computer kya hai" और कंप्यूटर कितने प्रकार होते हैं, कंप्यूटर की विशेषताएं क्या होती है, और कंप्यूटर के क्या लाभ है, कंप्यूटर के क्या हानि है, और कंप्यूटर कैसे कार्य करती है, इत्यादि के बारे में.

यदि आपको इस से रिलेटेड कोई भी जानकारी जानने हो यह समझ में नहीं आ रहा हो तो आप नीचे कॉमेंट बॉक्स पर बेझिझक पूछ सकते हैं, और कोई राय देनी हो तो, उसके लिए भी आप कमेंट बॉक्स में कमेंट कर सकते हैं.

अगर इस पोस्ट में आपको मजा आया हो, तो आप इस पोस्ट को अपने मित्रों के साथ शेयर जरूर करें.
अंततः आपको पोस्ट पढ़ने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद.

4 Comments

Post a Comment
Previous Post Next Post